Guest Article

इखलाक  सिर्फ इंसान है।

 ख़ामोशी भी सहयोग है,जो चाहे जनता कहके अपनी तरफ समझ ले। तो क्या खामोश रहना ठीक समझते हो?अब मुनासिब नहीं है। खामोश रहना हाँ बुरा नहीं है मुझे क्या? कहना,...
Continue Reading »